Loading...
UPSC KART is under construction now

Bharatiya Kala Evam Sanskriti

सबसे ज्यादा बिक्री वाली पुस्तको की सूची में शामिल भारतीय कला एवं संस्कृति नामक तृतीय संस्करण वाली यह संशोधित एवं परिवर्द्धित पुस्तक, जो नितिन सिंघानिया द्वारा लिखी गयी है ,को मैक्ग्रॉ – हिल द्वारा प्रकाशित करने में गर्व की अनुभूति हो रही है।

by Nitin Singhania

Add to Wishlist
Add to Wishlist
Compare

Description

Description: सबसे ज्यादा बिक्री वाली पुस्तको की सूची में शामिल भारतीय कला एवं संस्कृति नामक तृतीय संस्करण वाली यह संशोधित एवं परिवर्द्धित पुस्तक, जो नितिन सिंघानिया द्वारा लिखी गयी है ,को मैक्ग्रॉ – हिल द्वारा प्रकाशित करने में गर्व की अनुभूति हो रही है। यह पुस्तक सिविल सेवा के प्रारंभिक और मुख्य परीक्षा के उम्मीदवारों के लिए भारतीय कला, चित्रकला, संगीत और वास्तुकला पर ज्ञान के व्यापक क्षेत्र को समाविष्ट करते हुए विश्लेषणात्मक और नवीनतम जानकारी प्रदान करती है। दो नए अध्यायों और एक परिशिष्ट के अलावा, अध्यायों को विवरणों के साथ संपन्न बनाया गया है, ताकि इसे अधिक केंद्रित और व्यापक बनाया जा सके। विशेष आकर्षण : . चार भागों यथा दृश्य कला ,प्रदर्शन कला ,भारत की संस्कृति एवं परिशिष्ट में विभाजित . 26 अध्यायों एवं 5 परिशिष्टों में समायोजित यह पुस्तक एक अनूठी संग्रहिका की तरह है , जिसमें भारतीय कला एवं संस्कृति के विभिन्न आयामों के विविध पक्षों के अनछुए पहलुओं का बेजोड़ चित्रण . इस संस्करण में निहित नवीन अध्याय: 1. बौद्ध और जैन धर्म विदेशी यात्रियों की दृष्टि में भारत . सामयिक मुद्दों (करेंट अफेयर्स) पर नया परिशिष्ट . पुस्तक के प्रत्येक अध्याय में अभ्यास हेतु सिविल सेवा की प्रारंभिक एवं मुख्य परीक्षाओं के मॉडल प्रश्नों का संग्रह . पुस्तक के प्रत्येक अध्याय में अभ्यास हेतु सिविल सेवा की प्रारंभिक एवं मुख्य परीक्षाओं के क्रमशः 17 एवं 37 वर्षों के दौरान पूछे गए प्रश्नों का अपार संग्रह . उच्चस्तरीय,विश्वसनीय,प्रभावकारी एवं नवीन सोंच के अनुरूप तथ्यों एवं प्रश्नों की प्रस्तुति ताकि सिविल सेवा की परीक्षा में सफलता के मार्ग आसान हो सके . वर्ष 2018 एवं 2019 में सिविल सेवा के विभिन्न परीक्षाओं में पूछे गए प्रश्नों को प्रमुखता से स्थान . QR कोड के सहारे वीडियो की उपलब्धि

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Bharatiya Kala Evam Sanskriti”

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Quick Navigation
×